फसलों को पालने और शीतलहर से बचाने के लिए किसान कुछ महत्वपूर्ण कदम उठा सकता है:

अच्छे बीजों का चयन: पहले ही से अच्छे और सुरक्षित बीजों का चयन करना फसल को प्राकृतिक आपदाओं से बचाने में मदद कर सकता है।

उचित समय पर बोया जाना: फसल को उचित समय पर बोना जाना चाहिए, ताकि वह अपने विकास की शुरुआत में ही शीतलहरों से सुरक्षित हो सके।

उपयुक्त पानी प्रबंधन: समझदारी से पानी प्रबंधन करना और उचित पानी प्रदान करना फसलों को शीतलहरों से बचाने में मदद करेगा।

प्रौद्योगिकी सुधारणा: नई तकनीकों का अध्ययन करना और उन्हें अपनाना, जैसे कि सीधे बारिश का संग्रहण करने के लिए कुआँ बनाना या निर्दिष्ट समय पर पानी सिंचाई करना।

बीमा करवाना: फसल बीमा करवाना एक महत्वपूर्ण कदम है ताकि आप आपकी फसल को किसी अनाकारण नुकसान से सुरक्षित रख सकें।

सर्कुलर कृषि: सर्कुलर कृषि पद्धतियों का अनुसरण करके फसल की सुरक्षा में मदद की जा सकती है, जिससे प्रदूषण को कम किया जा सकता है और फसलों को सही ढंग से पाला जा सकता है।