1.1 गन्ना किसान को ऑनलाइन गन्ना बीज प्राप्त करना होगा आसान [ Easy Steps ]

गन्ना किसान

गन्ना किसान | cane up.in | cane up | caneup | caneup.in 2023 | ganna parchi | उत्तर प्रदेश गन्ना सट्टा | enquiry.caneup.in | caneup.xyz | up cane gov in | उत्तर प्रदेश गन्ना पर्ची कैलेंडर | upcane.co.in | eganna | गन्ना पर्ची कैलेंडर | गन्ना पर्ची | e ganna | उत्तर प्रदेश गन्ना पर्ची | cane up.in | caneup

किसानों को अब हुई राहत सरकार ने ऑनलाइन आरक्षण के बदले गन्ना बीज उपलब्ध कराने की व्यवस्था की है।

उत्तर प्रदेश की गन्ना फसल को प्रभावित करने वाले मुद्दों के समाधान के लिए राज्य की योगी सरकार जी तोड़ मेहनत कर रही है। राज्य में गन्ना उगाने वाले किसानों को उत्पादन बढ़ाने के लिए हर तरह की सुविधा दी जाती है। प्रदेश के गन्ना किसानों के लिए अंतरिम तौर पर एक अच्छी खबर है। गन्ना उगाने के लिए किसानों को अब उच्च श्रेणी के बीजों के लिए इधर-उधर नहीं भटकना पड़ेगा। वे अब आसानी से उन्नत प्रकार के गन्ने के बीज घर पर ही प्राप्त कर सकते हैं, गन्ने की उत्पादकता में सुधार कर सकते हैं। फसल उगाने वाले किसानों को इसके लिए सबसे अच्छे प्रकार के गन्ने के बीजों को आरक्षित करने की आवश्यकता होगी। राज्य सरकार ने इसके लिए ऑनलाइन बुकिंग सिस्टम विकसित किया है। खबरों के मुताबिक किसान सरकार की इस व्यवस्था से वाकई काफी खुश है. पहले की तुलना में अब किसान गन्ना उगाने के लिए आसानी से बीज प्राप्त कर सकते हैं। ऐसा करने और बेहतर उपज प्राप्त करने से, किसान अब एक बड़े क्षेत्र में गन्ना बो सकते हैं और अपनी आय बढ़ा सकते हैं।

ऑनलाइन बुकिंग व्यवस्था के माध्यम से गन्ना बीज का वितरण

देश के अधिकांश गन्ने का उत्पादन उत्तर प्रदेश में होता है, जहाँ किसान इसे बड़े पैमाने पर लगाते हैं। गन्ने का उत्पादन बढ़ाने के लिए किसान उन्नत किस्म के बीजों की तलाश में हमेशा कृषि विभागों से अनुसंधान संस्थानों की ओर भागते रहते हैं। सरकार ने इस मुद्दे को ध्यान में रखते हुए किसानों के लिए उन्नत किस्म के गन्ना बीज ऑनलाइन ऑर्डर करने के लिए एक प्रणाली स्थापित की है।किसान अब घर बैठे ही ऑनलाइन गन्ना बीज खरीद सकते हैं। आधिकारिक वेबसाइट https://enquiry.caneup.in/ के माध्यम से किसान गन्ना बीज ऑर्डर कर सकते हैं। इसके अलावा किसान गन्ना बीज ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं। खास पहलू यह है कि शाहजहाँपुर समेत कई गन्ना अनुसंधान केंद्र बेहतरीन किस्म के गन्ने के बीज का उत्पादन कर रहे हैं। कम से कम गन्ने के खेत में रासायनिक उर्वरकों के उपयोग की निगरानी किसानों की गन्ने की खेती के साथ ही की जा रही है।

बीजों का वितरण पहले आओ पहले पाओ के आधार पर किया जा रहा है।

मीडिया सूत्रों के मुताबिक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहले राज्य के गन्ना विकास विभाग से गन्ना किसानों की समस्याओं का समाधान करने को कहा था. नतीजा यह हुआ कि गन्ना मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने उसी तरह गन्ने के बीज का वितरण किया जिस तरह से गन्ना पर्ची बांटी जाती थी. ऑनलाइन रिजर्वेशन भी किए गए हैं। हाल ही में गन्ना विकास विभाग ने स्मार्ट गन्ना किसान (SGK) ऐप और SGK की ऑनलाइन वेबसाइट https://enquiry.caneup.in/ भी लॉन्च की, जिस पर किसान घर बैठे आसानी से गन्ना खरीद सकते हैं। इन पहलों का उद्देश्य किसानों को गन्ने के बीज की आपूर्ति करना है। ऑनलाइन बीज आरक्षित करने की क्षमता।इस व्यवस्था के तहत किसानों को पहले आओ पहले पाओ के आधार पर गन्ना बीज उपलब्ध कराया जाएगा। इससे किसानों को अब व्यर्थ श्रम नहीं करना पड़ेगा। वहीं, उत्तर प्रदेश गन्ना अनुसंधान परिषद के सभी 9 केंद्र गन्ने के बीज की व्यापक वैरायटी उपलब्ध कराते हैं। अधिक जानकारी के लिए किसान हेल्पलाइन 1800-121-3203 या 1800-180-1551 पर भी संपर्क कर सकते हैं।

किसान इस तरह गन्ने के बीज का ऑर्डर दे सकते हैं।

डीसीओ डॉ. आरडी द्विवेदी के अनुसार, गन्ने के बीज के लिए ऑनलाइन अनुरोध जमा करने के लिए किसानों को सबसे पहले स्मार्ट गन्ना किसान (SGK) ऐप या वेबसाइट https://enquiry.caneup.in/ पर जाना होगा। इस पर सबसे पहले किसान भाइयों को एक कैप्चा कोड प्राप्त होगा। आवेदन फॉर्म तक पहुंचने से पहले यह कैप्चा दर्ज किया जाना चाहिए। किसान को इस आवेदन फॉर्म को भरना होगा और अपना आधार कार्ड नंबर, मोबाइल नंबर, बैंक खाता नंबर, गांव का नाम, निकटतम गन्ना अनुसंधान सुविधा का स्थान, गन्ने का प्रकार, गन्ना बड संख्या जैसी जानकारी प्रदान करके जमा करना होगा। , आदि जैसे ही आवेदन चालू होता है, गन्ने के बीज आरक्षित हो जाते हैं।

गन्ने की उत्पादकता में वृद्धि हुई है ।

आप लोगों को बता दें कि उत्तर प्रदेश के 28.53 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में बोए जाने वाले गन्ने का उपयोग चीनी, गुड़ और अन्य उत्पाद बनाने में किया जाता है। उधर, महाराष्ट्र में किसानों ने इस साल 14.9 लाख हेक्टेयर जमीन पर गन्ना लगाया है। पूरे देश में 62 लाख हेक्टेयर भूमि पर गन्ना उगाया जाता है। फसल वर्ष 2011-12 में उत्तर प्रदेश में प्रति एकड़ 59.35 टन गन्ने का उत्पादन हुआ। राज्य ने तब 1335.72 लाख टन गन्ने का उत्पादन किया था।जबकि 2021-2022 में गन्ने की उत्पादकता 82.31 टन प्रति हेक्टेयर थी। इस दौरान राज्य में 2272.19 लाख टन गन्ने का उत्पादन हुआ। इससे क्या निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि यूपी में गन्ने की उत्पादकता बढ़ी है? राज्य का गन्ना उत्पादन क्षेत्र पहले के समय से बढ़ा है।

खबर से गन्ना किसानों को राहत मिली है।

किसानों को महंगाई से निपटने में मदद करने के लिए राज्य की योगी सरकार ने हाल ही में गन्ने के बीज के दाम में कमी की थी. सरकार ने गन्ने की नई किस्म पेश की है। 13235 के लिए ब्रीडर बीज अब 1275 रुपये प्रति क्विंटल के मुकाबले 850 रुपये प्रति क्विंटल की कम कीमत पर पेश किया जाता है। एक साथ गन्ने की एक अलग अनोखी किस्म के लिए शा  बीज 1700 रुपये प्रति क्विंटल की जगह अब 850 रुपये प्रति क्विंटल में मिल रहे हैं। किसानों को अब गन्ने के बीज 850 रुपये प्रति क्विंटल की लागत से प्राप्त होंगे, क्योंकि प्राथमिक बोई गई फसल के मूल्य में वृद्धि के परिणामस्वरूप वे अपने साधनों के भीतर अधिक गन्ना लगा सकते हैं। इसके परिणामस्वरूप राज्य का गन्ना बोया गया रकबा बढ़ेगा।

Sharing Is Caring:

Leave a Comment

close button